सोमवती अमावस्या का हिन्दुओं में खास महत्व : सूरज शास्त्री
धर्म-कर्म सतकुंभा धाम हरियाणा

सोमवती अमावस्या का हिन्दुओं में खास महत्व : सूरज शास्त्री

सोमवती अमावस्या पर सतकुंभा पर स्नान कर की पित्रों के मोक्ष की कामना  रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत।  सतकुंभा तीर्थ धाम पर अमावस्या के दिन श्रद्धालुओं ने स्नान किया। श्रद्धालुओं ने अपने पित्रों की निमित पूजा कर उनके…

मनुष्य जीवन में नैतिक कार्य करना ही सबसे बड़ा धर्म : कंवरपाल गुर्जर
धर्म-कर्म राजनीति सतकुंभा धाम हरियाणा

मनुष्य जीवन में नैतिक कार्य करना ही सबसे बड़ा धर्म : कंवरपाल गुर्जर

पेड़ लगाने के बाद उसकी देखभाल करना भी मनुष्य की जिम्मेदारी, सतकुंभा धाम को कृष्णा सर्किट में शामिल करने के लिए महंत ने पत्र सौंपा रणबीर सिंह, सोनीपत। प्रदेश के शिक्षा, वन एवं पर्यटन मंत्री कंवरपाल…

सतकुंभा धाम पर यादव परिवार ने रोपी त्रिवेणी
धर्म-कर्म सतकुंभा धाम हरियाणा हेल्थ

सतकुंभा धाम पर यादव परिवार ने रोपी त्रिवेणी

साफ-स्वच्छ वातावरण के लिए लगाते हैं त्रिवेणी रणबीर सिंह रोहिल्ला, सोनीपत। सिद्धपीठ तीर्थ सतकुंभा धाम पर त्रिवेणी लगाकर वातावरण को प्रदूषण से बचाने का कार्य किया। एडवोकेट संतोष यादव, प्रकाश यादव, सत्यवान शास्त्री, पवन शास्त्री…

सिद्धपीठ तीर्थ सतकुंभा धाम : सतकुम्भा माहात्मय
देश धर्म-कर्म सतकुंभा धाम

सिद्धपीठ तीर्थ सतकुंभा धाम : सतकुम्भा माहात्मय

सिद्धपीठ तीर्थ सतकुंभा धाम : सतकुम्भा माहात्मय जीटी रोड़ स्थित कस्बे गन्नौर से मात्र छह किलोमीटर दूर बसा है गांव खेड़ी गुज्जर। यह गांव अपने अंदर अतीत की अनेक कहानियां व सभ्यता छिपाए हुए है।…

पवित्र नगर उज्जयिनी
देश धर्म-कर्म सतकुंभा धाम

पवित्र नगर उज्जयिनी

पवित्र नगर उज्जयिनी उज्जयिनी/उज्जैन की पवित्र नगरी मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से दक्षिण-पश्चिम मेें, पुण्य सलिला शिप्रा के निर्मल एवं मनोहर पूूर्वीय तट पर बसी हुई है। धार्मिक, पौराणिक, ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक नगरी उज्जयिनी…

श्री क्षेत्र त्र्यंबकेश्वर एवम् नासिक
देश धर्म-कर्म सतकुंभा धाम

श्री क्षेत्र त्र्यंबकेश्वर एवम् नासिक

नासिक जिले में शहर की पश्चिम दिशा में अठारह मील दूरी पर ‘ब्रह्मगिरी’ पर्वत है, जो सह्याद्री का एक हिस्सा है, उसकी तलहटी में बसा हुआ है ‘श्री क्षेत्र त्र्यंबकेश्वर’।  गौतमाश्रम  प्रयाग क्षेत्र के पास…

तीर्थराज प्रयाग : प्रयागराज भारत का प्राण कहा गया
धर्म-कर्म सतकुंभा धाम

तीर्थराज प्रयाग : प्रयागराज भारत का प्राण कहा गया

हमारा देश भारत विश्व की आत्मा कहलाता है और प्रयागराज भारत का प्राण कहा गया है। हमारे देश को जीवनदायी शक्तियाँ इसी धरती से मिलती रही है। जिस तरह से सनातन धर्म अनादि कहा जाता…

हरि की नगरी हरिद्वार
देश धर्म-कर्म सतकुंभा धाम

हरि की नगरी हरिद्वार

शास्त्रों में, हरिद्वार को गंगाद्वार, मायापुरी और कपिलस्थान इत्यादि के रुप में वर्णित किया गया है। यह चार धाम (उत्तराखंड में तीर्थ के चार मुख्य केंद्रों - बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, और यमुनोत्री) के लिए एक…

सिद्धपीठ तीर्थ सतकुंभा धाम : कुम्भ माहात्म्य 
देश धर्म-कर्म सतकुंभा धाम हरियाणा

सिद्धपीठ तीर्थ सतकुंभा धाम : कुम्भ माहात्म्य 

कुम्भ माहात्म्य : कुम्भ भारतीय संस्कृति का महापर्व कहा गया है। इस पर्व पर स्नान, दान, ज्ञान मंथन के साथ ही अमृत प्राप्ति की बात भी कही जाती है। कुम्भ का बौद्धिक, पौराणिक, ज्योतिषीय सिद्धांत…