ज्ञापन सौंपकर कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग करेगें : परोचा

ज्ञापन सौंपकर कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग करेगें : परोचा

देवेन्द्र बतरा, नरवाना। भाजपा-जजपा विधायकों के घेराव के बाद अब किसान व मजदूर 26 जून को चंडीगढ़ स्थित राजभवन का घेराव करेगें और राज्यपाल के माध्यम से राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौपकर कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग करेगें। राष्ट्रीय मजदूर किसान मंच के प्रदेश महासचिव अंकुश परोचा ने कहा कि 26 जून 2021 को खेती बचाओ, लोकतंत्र बचाओ के आह्वान पर राज्यपाल के आवास पर विरोध के साथ केंद्रीय आह्वान के रूप में मनाया जाएगा।

उन्होंने बताया कि यह दिल्ली में किसानों के विरोध प्रदर्शन के 7 महीने पूरे होने और आपातकाल लगाने की 46वीं बरसी पर आयोजित किया जा रहा है। इसे रोष मार्च के रूप में आयोजित किया जाएगा और भारत के राष्ट्रपति को संबोधित रोष पत्र राज्यपालों और उपराज्यपालों को सौंपा जाएगा। अंकुश परोचा ने दावा किया कि नरवाना क्षेत्र सहित पूरे प्रदेश के किसान व मजदूर भारी सख्यां में किसान राजभवन का घेराव करने के लिए जाएगें। परोचा ने बताया कि इसके अलावा 30 जून को सभी सीमाओं पर हल क्रांति दिवस मनाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार को जल्द से जल्द से किसानों की मांगें मान लेनी चाहिए और कृषि बिलों को रद्द करना चाहिए। उन्होंने आह्वान किया कि 26 जून को भारी सख्यां में किसान व मजदूर राजभवन का घेराव करने पहुचें।

राजनीति हरियाणा