संपूर्ण मानव जाति का अस्तित्व प्रकृति पर ही निर्भर : कमलेश रोहिल्ला

0
सोनीपत। रेलवे परिसर में पौधारोपण से पहले पौधों के साथ शहर के गणमान्य व्यक्ति।
  • सप्ताह में एक दिन पौधों के लिए भी निकालना चाहिए : राज वर्मा
  • स्वस्छ वातावरण के लिए पौधारोपण करना बेहद जरूरी : अनीता रोहिल्ला

रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत। विश्व रोहिल्ला राजपूत संघ ट्रस्ट के बैनर तले शनिवार को रेलवे परिसर में पौधारोपण किया गया। कार्यक्रम का नेतृत्व संघ की प्रदेश उपाध्यक्ष अनीता रानी रोहिल्ला ने किया। इस दौरान बड़, पीपल, नीम व अर्जुन के पौधे रोपे गए। पौधोरापण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कमलेश रोहिल्ला-श्याम सुन्दर रोहिल्ला व राजीव कुमार रोहिल्ला ने कहा कि पौधे हमें सभी कुछ देते हैं, आक्सीजन के साथ-साथ फल व ठंडी छांव भी देते हैं।

भीषण गर्मी में यात्री धूप से बचने के लिए पेड़ों का सहारा ही लेता है। प्रकृति का संतुलन बनाए रखने के लिए पौधारोपण बहुत जरूरी है। संपूर्ण मानव जाति का अस्तित्व प्रकृति पर ही निर्भर है। इसलिए हमें समय रहते सुरक्षित पर्यावरण बनाना होगा। प्रकृति को बचाने के लिए अकेला व्यक्ति काफी नहीं है, ऐसे में हम सभी को मिलकर पौधारोपण के साथ उनके संरक्षण की जिम्मेदारी लेनी होगी, ताकि हमारा पर्यावरण फिर से हरा-भरा हो सके। इंसान को अपने जीवन काल में साल में कम से कम एक या दो बार एक पौधे जरूर लगाने चाहिए और उनकी देखरेख भी करनी चाहिए।

राज वर्मा (शिक्षा विभाग दिल्ली में क्लस्टर कोर्डिनेटर) व नंद एण्ड संस के संचालक दीपक वर्मा ने कहा कि पौधारोपण के लिए हर दिन शुभ होता है, लेकिन आज बहुत ही शुभ दिन है। आज के दिन को देखे तो पौधारोपण बहुत जरूरी है, क्योंकि कोविड को देखा जाए तो पौधारोपण बेहद महत्वपूर्ण है, कोविड के दौरान हर तरफ आक्सीजन को लेकर त्राही-त्राही मची हुई थी। इसलिए व्यक्ति को अपने जन्मदिन या अन्य किसी खास दिन पर पौधा लगाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि पौधा लगाने पर ही हमारी जिम्मेदारी खत्म नहीं होती, जब तब पौधा पेड़ न बन जाए तब तक उसकी देखभाल भी करनी चाहिए। सप्ताह में एक दिन समय निकालकर जो पौधा लगाया है, उसकी देखभाल करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मनुष्य में जन्म लेकर मृत्य तक पेड़-पौधों की अहम भूमिका है। विश्व रोहिल्ला राजपूत संघ ट्रस्ट की हरियाणा प्रदेश उपाध्यक्ष अनीता रानी रोहिल्ला ने कहा कि हमे अपने आसपास का वातावरण साफ-स्वच्छ रखना है। इसके लिए हमें पौधारोपण करना पड़ेगा, तभी हम अपने शहर को हरा भरा रख सकते हैं।

उन्होंने कहा कि जिस प्रदेश या शहर में हरियाली होगी, वहां का वातारण शुद्ध होगा और वहां की जनता स्वस्थ रहेगी। हम अपनी आने वाली पीढ़ी को तभी स्वच्छ वातावरण दे पाएंगे जब हम पौधारोपण करने के साथ-साथ उसकी अपने बच्चे की तरह देखभाल भी करेंगे। अनीता रानी रोहिल्ला ने कहा कि पेड़-पौधे पक्षियों के रेन-बसेरे हैं, इनके बिना पंछियों का जीवन संभव नहीं है। इसलिए हमें पंछियों को बचाने के लिए भी पेड़-पौधे लगाने चाहिए।

डा. छज्जूराम टांक ने कहा कि 5 जून को पूरे विश्व में पर्यावरण दिवस मनाया जाता है। इस दिन को एक महत्वपूर्ण दिन बनाते हुए लोगों को ज्यादा से ज्यादा पौधे लगाने चाहिए और संकल्प लेना चाहिए की जब तक ये पेड़ नहीं बन जाता उसी सुरक्षा करेंगे। उन्होंने कहा कि पेड़ हमें लकड़ी के अलावा बहुत सी जडी बुटियां भी देते हैं, जिसे खाकर व्यक्ति स्वस्थ हो जाता है। रविन्द्र कुमार रोहिल्ला ने कहा कि मनुष्य के लिए पेड़ जीवनदायी है। जब बच्चा पैदा होता है, तो उसे सबसे पहले आक्सीजन की जरूरत होती, जो हमें पेड़ों से प्राप्त होती है।

उन्होंने कहा वर्तमान दौर में आक्सीजन की बहुत कमी महसूस की गई, अगर हम शुरू से ही पेड़ों पर ज्यादा ध्यान देते तो शायद ऐसे दिन नहीं देखने पड़ते। पेड़ों की अंधाधुंध कटाई हो रही है, जिससे कारण तापमान में बढ़ोतरी हो रही है। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए हर आदमी को पौधे लगाने चाहिए, जो व्यक्ति पौधा नहीं लगा सकता है, वह पौधों में पानी देकर उनकी देखभाल कर सकता है।

इस मौके पर हिमांशु, प्रियांशु सहित कई अन्य गणमान्य व्यक्ति ने कहा कि मनुष्य के साथ-साथ जीव-जन्तुओं का जीवन भी पेड़, पौधों पर निर्भर है, इसलिए हर व्यक्ति का कर्तव्य बनता है कि वे अपने जीवन में एक पौधा जरूर रोपकर उसके संरक्षण की जिम्मेदारी संभाले और समय-समय उसकी देखभाल करते रहें। विश्व पर्यावरण दिवस पर विश्व रोहिल्ला राजपूत संघ ट्रस्ट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं राई से वरिष्ठ भाजपा नेता नरेश रोहिल्ला ने बहालगढ़ में पीपल का पौधा लगाया। उन्होंने कहा कि पीपल का पेड़ हमें सबसे ज्यादा आक्सीजन प्रदान करता है। इसलिए जब भी पौधोरापण करे बड और पीपल लगाए, ताकि हर समय हमें स्वस्छ हवा मिलती रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here