बाबा साहेब ने समाज को एक मंच पर खड़ा करने का किया काम : कविता

0
भीमराव अम्बेडकर ने हमेशा दिया महिलाओं की शिक्षा को बढ़ावा, दी अम्बेडकर एजुकेशनल सोसायटी ने पिछले 50 वर्षों में हजारों बच्चों को किया शिक्षित रणबीर सिंह रोहिल्ला, सोनीपत। शहरी स्थानीय निकाय, महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन ने कहा कि भारत की धरती ने भीमराव अम्बेडकर जैसे बेटे पैदा किए जिन्होंने मनुष्य जाति की दशा ही बदल दी। जिनके कारण भारत का नाम विदेशों में विख्यात हुआ। श्रीमती जैन रविवार को दी अम्बेडकर एजुकेशनल सोसायटी की स्थापना के 50 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में आयोजित स्वर्ण जयंती समारोह में उपस्थित लोगों को संबोधित कर रही थी। उन्होंने कहा कि पिछले 50 वर्षों से काम कर रही इस एजुकेशनल सोसायटी ने हजारों बच्चों को शिक्षित किया और आज इसका ही परिणाम है कि इस संस्था में शिक्षा प्राप्त किए हुए सैकड़ों छात्र आज देश के विभिन्न बड़े-बड़े पदों पर आश्रित हैं। उन्होंने कहा कि हमें भीमराव अम्बेडकर द्वारा दिखाए गए रास्ते पर ही आगे बढऩा चाहिए क्योंकि आज के समय समाज को आगे बढ़ाने के लिए शिक्षा का महत्वपूर्ण योगदान है। भीम साहेब को भारतीय संविधान का रचियता कहा जाता है क्योंकि आज उनकी ही देन है कि हम सब देशवासी मिल जुलकर रहते है। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब ने उस समय समाज में फैली भेदभाव की नीति को दूर कर देश को एक मंच पर खड़ा करने का काम किया। श्रीमती जैन ने कहा कि बाबा साहेब ने अपने जीवन में हमेशा महिलाओं व लड़कियों को शिक्षित करने पर बल दिया और आज प्रदेश में भाजपा सरकार ने उनके रास्ते पर चलते हुए महिलाओं व लड़किया की शिक्षा के लिए अनेक स्कूल व कॉलेजों का निर्माण किया है। उन्होंने बताया कि 2014 में प्रदेश में भाजपा सरकार के आने से पहले पूरे प्रदेश में केवल 32 महिला कॉलेज थे लेकिन भाजपा सरकार ने अपने साढे चार साल के कार्यकाल में 40 महिला कॉलेजों का निर्माण करवाया। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने पिछले दिनों में ही जींद में एक करोड़ की लागत से छात्रावास बनाने का निर्णय लिया है तथा आने वाले दिनों में प्रदेश के पांच जिलों में भी इन छात्रावासों का निर्माण किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इन छात्रावासों का निर्माण करने का एक ही उद्देश्य है कि लड़कियों को शिक्षा ग्रहण करने में कोई दिक्कत न आए। उन्होंने बताया कि हरियाणा सरकार ने नागरिकों को भ्रष्टाचार मुक्त और पारदर्शी ढंग से सरकारी योजनाओं व सेवाओं का लाभ देना सरकार की प्राथमिकता है। मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने 25 दिसंबर 2018 को सुशासन दिवस के अवसर पर प्रदेश भर में एक ही छत के नीचे 37 विभागों की 485 सेवाएंं व योजनाओं का लाभ देना शुरु किया गया है। उन्होंने बताया कि सरल केंद्र व अंत्योदय भवन पर विभिन्न पेंशन योजनाओं, कृषि, भवन एवं निर्माण विभाग, रोजगार विभाग, मत्स्य पालन, अनुसूचित जाति पिछड़ा वर्ग कल्याण निगम, बागवानी विभाग, श्रम विभाग, मार्केटिंग बोर्ड, सैनिक/ अद्र्ध सैनिक की सेवाएं, सांईंस एंड टैक्रोलॉजी, हरेडा, जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग, बिजली वितरण निगम, पशु पालन, वित्त एवं विकास निगम, राजस्व एवं आपदा प्रबंधन, स्थानीय शहरी निकाय विभाग, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग, खेल एवं युवा कार्यक्रम विभाग, पर्यटन विभाग, कल्याण विभाग और महिला एवं बाल विकास विभाग से संबंधित योजनाओं का लाभ मिलेगा। यहां पर नागरिकों की सुविधा के लिए सहायता केंद्र, टोकन सिस्टम, प्रतीक्षा स्थल भी बनाया गया है। सेवाओं के लिए अलग-अलग काऊंटर स्थापित किए गए हैं। उन्होंने बताया कि यहां पर राईट टू सर्विस एक्ट के नियमों की पालना के अनुरूप सेवाएं प्रदान की जा रही हैं। इस मौके पर उन्होंने संस्था की वेबसाइट को भी लांच किया। अंत में उन्होंने संस्था के सभी संस्थापकों व विशिष्ठ अतिथियों को सम्मानित भी किया। इस अवसर पर हरियाणा सरकार में आवास विभाग के एसीएस धनपत सिंह, भारत सरकार मे मानव संसाधन मंत्रालय के संयुक्त सचिव डॉ० जीएस चौहान, यूबीआई के चीफ मैनेजर श्याम प्रकाश, एमडीयू रोहतक से डॉ० आरएस सांगवान, एससी गुप्ता, होमगार्ड कमांडेंट बिजेन्द्र ङ्क्षसह, दी अम्बेडकर एजुकेशनल सोसायटी के प्रधान सत्यवान भाटिया, कुलदीप सिंह, रामकवार, मूल चंद सरोहा, सत्यवान खत्री, ओमप्रकाश, रतन सिंह भाटिया, जय भगवान, सतप्रकाश, दयाराम, जगबीर सिंह, सुरेन्द्र कुमार, पवन वर्मा, जगबीर सिंह तथा महेन्द्र सिंह भाटिया सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here