सिरसा में आठ माह में पौने पांच किलो हेरोइन पकड़ पुलिस थपथपा रही है अपनी पीठ

0
पिछले छह माह में नागरिक अस्पताल में आए 18 हजार से अधिक नशाखोर, गांव रोहण में ग्रामीणों ने पुलिस को घेरा< राजेंद्र कुमार, सिरसा। हरियाणा में सिरसा के पुलिस अधीक्षक अरुण नेहरा ने आज अपने यहां आठ माह के कार्यकाल में उपलब्धियों को पेश करते हुए दावा किया कि उनके नेतृत्व में पुलिस ने मादक पदार्थ अधिनियम के तहत अब तक 305 अभियोग दर्ज कर 521 लोगो को गिरफ्तार किया है । पुलिस ने पकड़े गये लोगो के कब्जा से 4 किलो 764 ग्राम 125 मिली ग्राम हेरोईन, 15 किलो 99 ग्राम अफीम, 1737 किलो 327 ग्राम चूरा पोस्त व डोडा पोस्त, 6 किलो 200 ग्राम गांजा, 256332 प्रतिबंधित नशीली गोलियां व 86080 नशीले कैप्सूल बरामद किये गये है। वहीं इसके दूसरी ओर बेहद चौकानें वाले तथ्य सामने आए है कि मात्र छह में सिरसा के अके ले नागरिक अस्पताल में बने नशा मुक्ति परामर्श केंद्र में 18 हजार से अधिक नशाखोर नशा छोडऩे के लिए आए। जबकि कालंावाली स्थित नशामुक्ति केंद्र व निजी अस्पतालों का आंकड़ा अभी सामने नहीं आया है।  पुलिस अधीक्षक अरुण नेहरा  ने आज यहंा जारी विज्ञप्ति में बताया कि उन्होंने 23 नवंबर 2018 को कार्यभार संभाला था और बीते करीब आठ माह की अवधि के दौरान जिला पुलिस द्वारा चलाए गए इस अभियान के दौरान सैंकड़ो लोगों को गिरफ्तार कर उनके कब्जा से करोड़ो रुपये के मादक पदार्थ बरामद किये गये है। पुलिस अधीक्षक ने सफलता का श्रेय आमजन के सहयोग तथा नशा के खिलाफ अभियान में जुटी पुलिस टीमों को देते हुए कहा है कि आमजन के सहयोग से ही किसी भी अभियान में शत प्रतिशत सफलता हासिल की जा सकती है। पुलिस अधीक्षक ने दावा किया कि करीब आठ महीनें की अवधि के दौरान जिला पुलिस ने मादक पदार्थ तस्करों के खिलाफ चलाये गये अभियान के दौरान सैंकड़ों तस्करों को काबू कर भारी मात्रा में करोड़ो रुपये के नशीले पदार्थो की बरामदगी की है। बीते आठ माह की अवधि के दौरान जिला पुलिस ने मादक पदार्थ अधिनियम के तहत अब तक 305 अभियोग दर्ज कर 521 लोगो को गिरफ्तार किया है । पुलिस ने पकड़े गये लोगों के कब्जा से 4 किलो 764 ग्राम 125 मिली ग्राम हेरोइन, 15 किलो 99 ग्राम अफीम, 1737 किलो 327 ग्राम चूरा पोस्त व डोडा पोस्त, 6 किलो 200 ग्राम गाजा, 256332 प्रतिबंधित नशीली गोलियां व 86080 नशीले कैप्सूल बरामद किये गये है।  वहीं,दूसरी ओर सिरसा जिले में नित्यप्रति बढ़ते चले जा रहे हेरोइन के कारोबार पर पुलिस द्वारा पूर्ण अंकुश ना लगा पाने के बाद अब ग्राम पंचायतें,युवा व सामाजिक संगठन आगे आने शुरू हो गए हैं। आज जिले के रोड़ी थाना अंतर्गत गांव रोहण में ग्रामीणों ने बैठक कर बढ़ते नशे पर चिंता जाहिर करते हुए इस पर अंकुश लगाने की रणनीति तैयार की वहीं नशा तस्करी में संलिप्त कुछ लोगों को पुलिस के हवाले भी किया। ग्रामीणों की सूचना पर जब पुलिस रोहण पहुंची तो ग्रामीणों ने पुलिस पर नशा तस्करों से संलिप्तता के ख्ुाले आरोप लगाते हुए वहां पहुंचे पुलिस अधिकारियेां की गाड़ी की घेरेबंदी कर ली। मामला पुलिस अधीक्षक तक पुहंचा तो कालांवाली के उपाधीक्षक को इसकी जंाच की जुम्मेवारी सौंपी गई है। पुलिस अधीक्षक अरूण नेहरा ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि जांच आने के बाद संबधित पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। सिरसा के नशामुक्ति केंद्र में नशाखोरों की स्थिति सिविल अस्पताल में बने नशामुक्ति केंद्र के प्रभारी चिकित्सक पंकज शर्मा ने बताया कि नशाखोरों की बढ़ती संख्या के दृष्टिगत हमारे पास बैडों व अन्य सुविधाओं की कमी है। जिससे नशा के शिकार मरीजों को दाखिल कर पाना मुश्किल है। बता दें कि उपरोक्त स्थिति एक केंद्र की है,इसके अलावा आंकडों व मृत्यु दर भी चौंकाने वाली है मगर सामाजिक तानेबाने के चलते इसे दबाया ही जा रहा है। जबकि प्रशासनिक स्तर पर आंकड़े एकत्रित ही नहीं किए जा रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here