धरती पर प्राणियों के लिए जल अमृत समान : सैनी

0
लाडवा । लाडवा विधायक डा. पवन सैनी ने कहा कि जल ही जीवन है, इस बात में कोई अतिश्योक्ति नहीं है, क्योंकि धरती पर सभी जीवित प्राणियों के लिए जल अमृत के समान है। जल के बिना धरती के किसी भी प्राणी का जीवन सम्भव नहीं है। विधायक डा. पवन सैनी शुक्रवार को लाडवा की श्रीराम कुंडी धर्मशाला में कृषि एवं किसान कल्याण विभाग द्वारा जल शक्ति अभियान के अंतर्गत आयोजित शिविर में किसानों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हमारी धरती पर वैसे तो 70 प्रतिशत जल है, पंरतु केवल 1 प्रतिशत जल ही पीने लायक पानी के रुप में उपलब्ध है। मनुष्य सहित पृथ्वी पर रहने वाले सभी जीव-जन व पौधों का जीवन जल पर ही निर्भर है, इसलिए जल का कोई विकल्प नहीं है। यह प्रकृति से प्राप्त निशुल्क उपहार है। फसलों के उत्पादन में सिंचाई का योगदान 15-16 प्रतिशत है तथा जिस प्रकार से मनुष्य पानी का दोहन व अंधाधुंध इस्तेमाल कर रहा है, उससे भूमिगत जल स्तर लगातार गिरता जा रहा है। इसलिए जल सरंक्षण की महत्वता और भी ज्यादा महत्वपूर्ण है। इस मौके पर कृषि विभाग के उपनिदेशक डा. प्रदीप मिल ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए जल सरंक्षण विषय पर विस्तार से जानकारी दी। कार्यक्रम में उपमंडल कृषि अधिकारी डा. शशिपाल ने विभाग की विभिन्न स्कीमों के बारे में विस्तार से जानकारी दी तथा कृषि विज्ञान केन्द्र से डा. हरिओम व डा. बुद्घमन भटनागर ने धान की फसल में आने वाले विभिन्न कीटों, बिमारियों व फसल विविधिकरण के बारे में विस्तार से बताया। इस अवसर पर डा. इंद्रपाल, डा. अमित कुमार, डा. रामपाल, डा. अनिल कुमार ने पीएम किसान से सम्बन्धित किसानों की समस्याओं का समाधान किया। इस मौके पर सुरजीत सिंह, सुभाष चंद, नैब सिंह, रिंकू, विनोद, हिशम सिंह, करनैल सिंह, सुरेन्द्र, सुल्तान, भान कुमार, विकास, सुमित, प्रमोद, राकेश, अनिल, हरपाल, प्रीतम, रामधारी, राजेश सैनी सहित भारी संख्या में किसान उपस्थित थे।
Previous articleनीलकंड जाने वाले शिव भक्तों को परेशानी
Next articleडीसीआरयूएसटी मुरथल में बनेगा शहीद स्मारक : कुलपति अनायत
न्यूज पोर्टल की श्रृखला में एक नया नाम सोनीपत 24 न्यूज पोर्टल और जुड़ गया। आप सोच रहे होंगे इसमें कौनसी बड़ी बात है। आखिर हर रोज तो न्यूज पोर्टल बनते रहते हैं। यह सच है कि आज के युग में जो न्यूज पोर्टल बनते हैं। अधिकांश निष्पक्ष और पारदर्शी पत्रकारिता का दावा करते हैं, परंतु जब हम उन्हें देेखते हैं तो हमारी उपेक्षाओं पर खरे नहीं उतरते हैं और हमें निराशा ही हाथ लगती है, हम पाते हैं कि न्यूज पोटर्ल में खबर ही नहीं। किसी ने राजनीतिक पार्टी में, किसी ने सत्ताधारी पार्टी की हां में हां करके पत्रकारिता के मूल स्वरुप को दूर ले जाया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here