प्राकृतिक संतुलन व पर्यावरण संरक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : विशाल

0
रणबीर सिंह रोहिल्ला, सोनीपत। एडिशनल सिविल जज (सीनियर डिविजन) एवं उपमंडल विधिक सेवाएं प्राधिकरण के चेयरमैन विशाल ने शुक्रवार को न्यायिक परिसर गन्नौर में पौधारोपण करते हुए अधिकाधिक पौधारोपण का संदेश दिया। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक संतुलन को स्थापित करने व पर्यावरण संरक्षण के लिए पौधारोपण बहुत जरूरी है। जिला एवं सत्र न्यायाधीश के निर्देशन में एडिशनल सिविल जज (सीनियर डिविजन) विशाल ने पौधारोपण करते हुए कहा कि पौधारोपण समय की मांग है। हर व्यक्ति को एक पौधा अवश्य लगाना चाहिए, जिसका वह पूर्ण पालन-पोषण करे। ताकि पौधा एक वटवृक्ष का रूप धारण कर सके। वन क्षेत्र के घटने के कारण प्रकृति का संतुलन भी बिगड़ रहा है, जिससे पर्यावरण पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। शहरों के साथ ग्रामीण अंचल में भी पेड़ों की अंधाधुंध कटाई की गई है। इससे पर्यावरण प्रदूषण की समस्या पैदा हो गई है। अब जरूरत है कि एकजुटता के साथ पर्यावरण संरक्षण के लिए हर संभव प्रयास किया जाए। एडिशनल सिविल जज विशाल ने कहा कि जिला एवं सत्र न्यायाधीश यशवीर सिंह राठौर पर्यावरण संरक्षण के प्रति बेहद गंभीर हैं। इसलिए वे स्वयं पौधारोपण को बढ़ावा देते हैं। खुद भी वे नियमित रूप से पौधारोपण करते हैं। साथ ही आम जनमानस को भी पौधारोपण के लिए प्रोत्साहित करते हैं। हमें वृक्षों की कटाई नहीं करनी चाहिए। यदि जरूरत पड़ती है तो बदले में नये वृक्ष अवश्य लगाने चाहिए। इस दौरान गन्नौर बार एसोसिएशन के प्रधान रामेहर पंघाल के नेतृत्व में सदस्य अधिवक्ताओं ने भी न्यायिक परिसर गन्नौर में पौधारोपण किया। साथ ही पब्लिक प्रोसिक्यूटर मनोज कुमार ने भी पौधारोपण किया।  उन्होंने कहा कि पौधारोपण के प्रति आम लोगों को जागरूक करने की जरूरत है। पर्यावरण संरक्षण के लिए जन सहयोग अपेक्षित है। इसके लिए स्कूल-कालेजों के विद्यार्थी विशेष भूमिका निभा सकते हैं। साथ ही उन्होंने संकल्प लिया कि जो पौधा उन्होंने रोपित किया है उसकी देखरेख वे स्वयं करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here