आधे घंटे की मूसलाधार बारिश ने शहर को किया जलमग्न

0
प्रशासन के दावे हुए खोखले साबित, शहर का सीवरेज सिस्टम हुआ फेल  रणबीर सिंह रोहिल्ला, सोनीपत। सोमवार को हुई मूसलाधार बारिश से जहां लोगो को गर्मी और उमस से राहत मिली। वहीं तेज हवाओं के साथ हुई आधे घंटे की मूसलाधार बारिश ने पूरे शहर को जलमग्न कर दिया। देखा जाए तो इस आधे घंटे की बारिश ने प्रशासन के दावों की पोल खोल कर रख दी है। शहर की सबसे पॉश कालोनी कहे जाने वाली सेक्टर 14 में लोगो के घरों में पानी घुस गया। लोगो के घरों के सीवरेज बैक मार गए, जिससे लोगो के घरों में बदबूदार पानी फैल गया। पिछले कई दिनों से लगातार प्रशासन दावे कर रहा था कि बरसात आने से पहले पूरे शहर के सीवरेज साफ कर दिए हैं। इस बार कहीं भी पानी निकासी की समस्या नहीं आएगी। गौरतलब है कि यह बारिश सिर्फ आधा घंटा हुई थी तो यह हाल हो गया। अगर कहीं यह बारिश इसी प्रवाह से केवल आधे की जगह एक घंटा हो जाती तो पूरे शहर का क्या हाल होता इसका अंदाजा बाखूबी लगाया जा सकता है। गीता भवन चौंक, बस अड्डा, गोहाना रोड, रेलवे अंडर ब्रिज, सेक्टर 14,  पुराना रोहतक रोड इलाका इन क्षेत्रों में पानी इतनी तेज रफ्तार से बह रहा था मानो कोई छोटी मोटी नदी बह रही हो। उपायुक्त कार्यालय से मिली सूचना के अनुसार सोनीपत शहर में 43 एमएम, गन्नौर में 40 एमएम, खरखौदा में 23 एमएम और गोहाना में 38 एमएम बारिश ने जहां किसानों के चेहरे खिला दिए। वहीं शहर में रहने वालों के लिए यह आफत की बारिश रही। 

बड़ा हादसा होने से टला मानसून की पहली बारिश ने जिला प्रशासन के विकास कार्यों की पोल खोल कर रख दी। नगर निगम में स्थापित नागरिक सुविधा केन्द्र (सीएचसी) की छत पर पानी जमा होने के कारण सीएचसी की सीलिंग नीचे लटक गई। जिससे नागरिक सुविधा केन्द्र में पानी फर्श पर आया। गनीमत ये रही कि सीलिंग सीएचसी के अन्दर नहीं गिरी न तो कोई बड़ा हादसा हो सकता था। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि जिला प्रशासन द्वारा निर्माण किए गए नागरिक सुविधा केन्द्र में निम्न क्वालिटी की सामग्री का इस्तेमाल किया गया है। वहीं दूसरी ओर ककरोई चौक पर बरसाती पानी की निकासी के लिए बनाए गए नाले के बैक मारने से सडक पर पानी जमा हो गया। गंदे पानी के रोड पर जमा होने से राहगीरों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। दुकानदारों का कहना था कि जिला प्रशासन को बार-बार ढक्कन उठाकर सीवर साफ करने की गुहार लगाई गई, लेकिन इस ओर किसी ने कोई ध्यान नहीं दिया। जिस कारण गंदे पानी की निकासी के लिए बनाए गए नाले पानी खिंचने की बजाय वापस बैक मार रहे थे। जिससे सडक़ पर गंदा पानी जमा हो गया।
Previous articleमुख्यमंत्री ने तीन परियोजनाओं की आधारशिला रखी
Next articleपौधरोपण कर जल और थल को बचाने का ले संकल्प : आर्य
न्यूज पोर्टल की श्रृखला में एक नया नाम सोनीपत 24 न्यूज पोर्टल और जुड़ गया। आप सोच रहे होंगे इसमें कौनसी बड़ी बात है। आखिर हर रोज तो न्यूज पोर्टल बनते रहते हैं। यह सच है कि आज के युग में जो न्यूज पोर्टल बनते हैं। अधिकांश निष्पक्ष और पारदर्शी पत्रकारिता का दावा करते हैं, परंतु जब हम उन्हें देेखते हैं तो हमारी उपेक्षाओं पर खरे नहीं उतरते हैं और हमें निराशा ही हाथ लगती है, हम पाते हैं कि न्यूज पोटर्ल में खबर ही नहीं। किसी ने राजनीतिक पार्टी में, किसी ने सत्ताधारी पार्टी की हां में हां करके पत्रकारिता के मूल स्वरुप को दूर ले जाया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here