सामाजिक सरोकार हमारी प्राथमिकता : मुख्यमंत्री

0
राजेश सलूजा, हिसार। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि हम हर कार्य राजनीति के लिए नहीं करते बल्कि सामाजिक सरोकार हमारी प्राथमिकता हैं। आमजन के जीवन में खुशी व समाज में भाईचारा बढ़ाने के लिए ही हरियाणा में ढाई साल पहले राहगिरी कार्यक्रम शुरू किए गए थे जिन्हें जनता ने काफी पसंद किया है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल आज हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय परिसर में राज्य स्तरीय राहगिरी प्रथम पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि शिरकत कर रहे थे। कार्यक्रम में वित्त एवं राजस्व मंत्री कैप्टन अभिमन्यु, सांसद बृजेंद्र सिंह, विधायक व हरियाणा ब्यूरो ऑफ पब्लिक इंटरप्राइजेज के चेयरमैन डॉ. कमल गुप्ता व मेयर गौतम सरदाना भी मौजूद रहे। मुख्यमंत्री ने राहगिरी में करवाई गई प्रत्येक गतिविधि में खुलकर हिस्सा लिया और प्रतिभागियों का हौसला बढ़ाया।  इस दौरान पुलिस के जवानों ने मुख्यमंत्री को सलामी दी और पुलिस की घुडसवार टीम, ढोल-ताशों, सांस्कृतिक टीमों, आर्मी बैंड व पुलिस बैंड ने पूरे जोश के साथ मुख्यमंत्री की आगवानी की। हकृवि परिसर में प्रवेश के साथ जैसे ही गतिविधियां दिखाई दीं, मुख्यमंत्री व्यक्तिगत रूचि के साथ प्रत्येक खेल में शामिल हुए। कबड्डी खेल देखते ही मुख्यमंत्री अप्रत्याशित रूप से कबड्डी-कबड्डी करते हुए खिलाडिय़ों के बीच मैदान में पहुंच गए और एक सांस में रेड मारकर वापस लौट आए। इसे देख खिलाड़ी ही नहीं, हर कोई दंग रह गया। इसी प्रकार सेल्फ डिफेंस की स्टाल पर आत्मरक्षा तकनीकों का प्रदर्शन कर रही बेटियों का भी मुख्यमंत्री ने न केवल हौसला बढ़ाया बल्कि उन्हें आत्मरक्षा की तकनीकों के बारें में भी बताया। मुख्यमंत्री ने बॉक्सिंग रिंग में उतरकर खिलाडिय़ों को प्रोत्साहित किया। वे महिलाओं के साथ मटका दौड़ में भी दौड़े। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कराटे, योग, दुर्गा शक्ति, बेडमिंटन, वॉली बाल, खो-खो, जल शक्ति, चेस सहित कार्यक्रम में लगाई गई सभी स्टाल पर जाकर प्रत्येक गतिविधियों में भागीदारी की और इनके प्रतिभागियों का हौसला बढ़ाया। कार्यक्रम में अंतर्राष्ट्रीय स्तर के हरियाणा के दर्जनभर खिलाडिय़ों ने भी भागीदारी की। कार्यक्रम के दौरान हरियाणा के प्रसिद्ध खिलाडिय़ों ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। अपने संबोधन की शुरुआत में मुख्यमंत्री ने जय हो, जय हो, जय हो, युवा शक्ति की, भारत माता की, हरियाणा की, देशभक्ति की, खेलों-खिलाडिय़ों की, कला-कलाकारों और राहगिरों की जय के नारों से युवाओं में जोश भरा। मुख्यमंत्री ने कहा कि ढाई साल पहले शुरू किया गया यह कार्यक्रम आज जनता के बीच काफी लोकप्रिय हो गया है। इस कार्यक्रम का मकसद भागदौड़ भरी जिंदगी को तनाव से मुक्त करना है। उन्होंने बताया कि भूटान में राष्ट्रीय समृद्धि का सूचकांक खुशी (हैप्पीनेस इंडेक्स) को माना जाता है। हमने भी उसी मकसद से यह कार्यक्रम शुरू किया है जिसका एकमात्र उद्देश्य सामाजिक सरोकार है। उन्होंने कहा कि राहगिरी के हर कार्यक्रम में कोई न कोई सामाजिक संदेश होता है। इस राहगिरी का सामाजिक संदेश जल सुरक्षा अभियान से जुड़ा है। पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में पानी के सदुपयोग की जरूरत पर बल दिया था। आमजन को जल का महत्व समझाने व इसकी बर्बादी रोकने के प्रति जागरूक करने के लिए जल शक्ति अभियान भी शुरू किया गया है।  उन्होंने कहा कि हमें ऐसे कार्यक्रमों को कभी रुकने नहीं देना है बल्कि इन्हें उपमंडल व खंड स्तर पर भी शुरू करवाकर इनमें आमजन की अधिक से अधिक भागीदारी को सुनिश्चित करना है। ऐसे कार्यक्रमों से एक तरफ जहां प्रतिभागियों का स्वास्थ्य ठीक रहता है वहीं लोगों को मिलने-जुलने व बातचीत करने का माहौल मिलता है जिससे भाईचारे की भावना भी बढ़ती है। उन्होंने बताया कि इन कार्यक्रमों का मकसद राजनीतिक लाभ लेना नहीं है। मुख्यमंत्री ने बताया कि युवाओं व खिलाडिय़ों को प्रोत्साहित करने के लिए गांव-गांव व्यायामशालाएं बनवाई गई हैं और खिलाडिय़ों के लिए ऐसी खेल नीति बनाई है जिसकी पूरे देश में सराहना हो रही है। हरियाणा में योग परिषद का गठन किया गया है ताकि अधिक से अधिक लोग योग को अपनाकर स्वस्थ जीवन जी सकें। मुख्यमंत्री ने जिला स्तर पर आयोजित होने वाले राहगिरी कार्यक्रमों में उल्लेखनीय प्रदर्शन करने वाले जिलों को अलग-अलग श्रेणियों में पुरस्कार देकर सम्मानित किया। अप्रैल 2018 से मार्च 2019 के बीच राहगिरी के सबसे अधिक कार्यक्रम आयोजित करने पर उन्होंने करनाल, गुरुग्राम व फतेहाबाद, राहगिरी कार्यक्रमों में प्रतिभागियों की संख्या के आधार पर गुरुग्राम, करनाल व हिसार, सबसे अधिक मीडिया कवरेज मिलने पर करनाल रोहतक व झज्जर, राहगिरी में उपायुक्तों की भागीदारी के आधार पर फतेहाबाद, कैथल व पानीपत, राहगिरी में पुलिस अधीक्षक की भागीदारी के आधार पर अंबाला, फतेहाबाद, भिवानी, करनाल व नारनौल जिलों के उपायुक्तों व पुलिस अधीक्षकों को सम्मानित किया। इसके अलावा राहगिरी कार्यक्रम को लोकप्रिय बनाने में विशेष योगदान देने पर आईपीएस भारती अरोड़ा, पंकज नैन, सोनल गोयल व सारिका पांडा को भी सम्मानित किया गया।
पुलिस महानिदेशक मनोज यादव ने पुलिस विभाग की वार्षिक रिपोर्ट प्रस्तुत की। उन्होंने बताया कि पिछले एक साल में प्रदेश में राहगिरी के 367 कार्यक्रम आयोजित किए जा चुके हैं जिनमें 8.59 लाख व्यक्ति भागीदारी कर चुके हैं। उन्होंने आमजन को पानी की बचत के लिए प्रेरित किया। उपायुक्त अशोक कुमार मीणा ने राहगिरी को मुख्यमंत्री की अनूठी सोच का परिणाम बताया जो समाज में खुशनुमा माहौल बनाने में सार्थक साबित हुई है। उन्होंने बताया कि हिसार जिला से शुरू हुई राहगिरी एडीजीपी व मुख्यमंत्री के विशेष अधिकारी ओपी सिंह की मेहनत के कारण प्रदेश के सभी जिलों में समान रूप से लोकप्रिय हो गई है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री की प्रकृति के प्रति समर्पण भावना के कारण ही जल शक्ति अभियान शुरू हुआ है जो मानव के सुखद भविष्य के लिए बहुत जरूरी है।  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here