पेयजल की किल्लत वाले क्षेत्रों का किया दौरा, जानी समस्याएं

पेयजल की किल्लत वाले क्षेत्रों का किया दौरा, जानी समस्याएं

निगम कर्मचारी गंभीरता से काम करें तो नहीं रहेगा संकट

रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत। शहर की विभिन्न कॉलोनियों में गहराई पेयजल संकट के लिए यमुना में जलस्तर कम होने-होने के साथ-साथ नगर निगम के अधिकारियों की लापरवाही एवं काम न करने की नीयत ज्यादा जिम्मेदार है। यदि कर्मचारी पेयजल समस्या को गंभीरता से लें तो संकट का हल निकाला जा सकता है। यह कहना है भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश मीडिया संपर्क प्रमुख राजीव जैन का। जैन मंगलवार को पेयजल संकट वाले राज मोहल्ला, अनिल नगर कुमार गेट, न्यू महावीर कॉलोनी, आदर्श नगर का दौरा करके जनता से मिले।

नागरिकों का कहना है कि बूस्टिंग स्टेशनों पर बिजली कनेक्शन में खराबी हो जाती है, वो कोई ठीक करवाने वाला नहीं होता, क्योंकि ट्यूबवेल ऑपरेटर अपनी मर्जी से ड्यूटी करते हैं और मनमर्जी से तय समय में पानी खोलने की बजाएं अलग-अलग समय पर खोलते हैं। नागरिकों ने कहा कि ट्यूबवेल की मोटर खराब हो जाये तो पहले उसे निकाल कर ठीक करवाया जाता है न कि साथ-साथ वैकल्पिक मोटर डाली जाती है, जिससे दो दिन का समय लग जाता है। जनता पानी के लिए हा-हाकार मचाने लगती है। ट्यूबवेल एवं बूस्टिंग स्टेशनों पर निगम द्वारा जनरेटर लगाने का ऐलान किया गया था, फिर बिजली की समस्या का रोना क्यों रोया जा रहा है। राजीव जैन ने कहा कि जाजल स्थित रैनीवैल पर बिजली आपूर्ति ठप हो जाये तो जनरेटर ना होने के कारण आधे शहर में पानी की सप्लाई रुक जाती है। इसके अलावा कई वर्षों से रेनीवेल के फिल्टरों की सफाई नहीं हुई, जिससे पानी का डिस्चार्ज कम हो गया है।

उन्होंने कहा कि शहर के पुराने ट्यूबवेलों को पेयजल के संकट का पूर्वानुमान लगाकर शुरू किया जाता तो इतनी बुरी स्थिति नहीं होती। सीवरेज जाम होने कारण जगह-जगह गंदा पानी आने की शिकायतें बढ़ती जा रही है। राजीव जैन ने निगम अधिकारियों को मौका दिखाकर समस्या का समाधान करने के निर्देश दिए। उन्होंने राज मोहल्ला में एक वर्ष से पेयजल में गंदे पानी आने के कारण पानी की लाइनें बदलवाने तथा ऊंचे इलाकों में पेयजल पहुंचाने के लिए ट्यूबवेल लगाने का आश्वासन दिया। इस मौके पर ज्वाहर बत्रा पूर्व पार्षद, मास्टर श्यामलाल, रजत जैन, प्रदीप, परमिंदर, परमानंद, अशोक चुग, जोगिंदर, गुरदयाल,सुनील,बाबू राम, खेमचंद,वंदना, विमला, संतोष, चंचल, कविता, सुशीला, कविता, मधु उषा रानी मौजूद थे।

राजनीति हरियाणा हेल्थ