पोस्ट कोविड मरीजों की काउंसलिंग बेहद जरूरी : उपायुक्त 

0
सोनीपत। सिविल सर्जन कक्ष में चिकित्सकों की बैठक लेते डीसी ललित सिवाच।

-उपायुक्त ने सिविल अस्पताल का दौरा कर कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की तैयारियों की समीक्षा की

-तीसरी लहर की संभावना के दृष्टिगत 500 बैड की व्यवस्था की जा रही

-उपायुक्त ने गंभीरता से वैक्सिनेशन का आकलन करते हुए दिए जरूरी निर्देश

रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत। कोविड-19 कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए सभी प्रकार की तैयारियों की समीक्षा के उद्देश्य से उपायुक्त ललित सिवाच ने मंगलवार को सिविल अस्पताल का दौरा किया। उन्होंने वर्तमान में कोरोना की स्थिति और पोस्ट कोविड मरीजों की काउंसलिंग की समीक्षा करते हुए अन्य स्वास्थ्य सुविधाओं का जायजा भी लिया।

उपायुक्त सिवाच ने सिविल अस्पताल के दौरे की शुरुआत आपातकालीन स्वास्थ्य सेवाओं के निरीक्षण के साथ की। उन्होंने दुर्घटनाग्रस्त मरीजों से बातचीत भी की। विभिन्न वार्डों का दौरा करते हुए उन्होंने डेंटल वार्ड का निरीक्षण किया। तदोपरांत उन्होंने रसोई घर का दौरा कर मरीजों को परोसे जाने वाले भोजन की पड़ताल की। उन्होंने स्पेशल केयर फोर न्यू बोर्न (एसएनसीयू) वार्ड और कंगारू मदर केयर वार्ड का निरीक्षण करते हुए स्वास्थ्य सेवाओं की जांच की।

उपायुक्त सिवाच ने आईसोलेशन वार्ड का दौरा करते हुए आईसीयू वार्ड का निरीक्षण किया। उन्होंने कोरोना वायरस की तीसरी लहर की संभावना के दृष्टिगत की जा रही तैयारियों की गंभीरता से पड़ताल की। उन्होंने जानकारी ली कि सिविल अस्पताल में तीसरी लहर से निपटने के लिए बैड की क्या व्यवस्था है। उन्होंने उमंग केंद्र का दौरा भी किया, जहां पोस्ट कोविड के मरीजों की काउंसलिंग की जाती है। उपायुक्त पोस्ट कोविड मरीजों के लिए संदेश दिया कि जो होना था हो गया, अब चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है।

उपायुक्त ने काउंसलर को भी प्रोत्साहित किया कि वे पोस्ट कोविड के मरीजों को हौंसला दें। उमंग की विशेष अहमियत है। उमंग में चिकित्सक सहित, काउंसलर, फिजियोथैरेपिस्ट, डायटिशियन इत्यादि की टीम मरीजों का ध्यान रखती है। इसके बाद उन्होंने सिविल अस्पताल में स्थापित ऑक्सिजन प्लांट का निरीक्षण करते हुए कहा कि अब ऑक्सिजन की कमी जैसी कोई समस्या नहीं है।

उपायुक्त ने सिविल सर्जन कक्ष में चिकित्सकों की बैठक लेते हुए विस्तार से तीसरी लहर की संभावनाओं को लेकर चर्चा की। उन्होंने कहा कि चर्चाएं हैं कि तीसरी लहर बच्चों को अधिक प्रभावित करेगी। ऐसे में जिला में बच्चों के लिए विशेष रूप से 500 से अधिक बैड की व्यवस्थाएं की जा रही हैं। इनमें 100 बैड सिविल अस्पताल में ही स्थापित किये जायेंगे, जिनमें आवश्यकतानुसार वृद्धि भी की जा सकेगी। किसी भी प्रकार की स्थिति से निपटने के लिए अग्रिम तैयारियां की जा रही हैं।

उपायुक्त ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए वैक्सिनेशन की समीक्षा भी की। उन्होंने कहा कि जिला में 8 लाख 39 हजार वैक्सिनेशन का लक्ष्य है, जिसमें 3 लाख 68 हजार वैक्सीन लगाई जा चुकी है। अभी 320 कोवैक्सिन तथा 14 हजार कोविशील्ड वैक्सीन उपलब्ध है। अभी आठ हजार कोविशील्ड और चार हजार कोवैक्सिन जिला को सांयकाल तक मिल जाएगी। इसके अलावा उन्होंने आम जनमानस से अपील की कि वे मास्क का प्रयोग व सोशल डिस्टेंसिंग की अनुपालना अनिवार्य रूप से करें। जब तक वैक्सीन नहीं लगती तब तक मास्क ही वैक्सीन है। इसलिए मास्क का प्रयोग अवश्य करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here