समस्त डीएनटी समाज के हकों के लिए सड़कों पर उतरेंगे : चौहान

0

डीएनटी के सभी समाजों को बोर्ड या सरकार में प्रतिनिधित्व ना दिया गया तो  वे सरकार एवं पार्टी का करेंगे विरोध

Rajesh sulija
Rajesh sulija

हिसार, राजेश सलूजा। विमुक्त घुमंतू जनजातियों के प्रमुख कार्यकर्ताओं की आवश्यक वर्चुअल बैठक हुई। बैठक में वर्तमान प्रदेश सरकार द्वारा घुमंतू जाति विकास बोर्ड के एक्सटेंशन पर विस्तार से चर्चा की गयी। इस बैठक की अध्यक्षता अखिल भारतीय हेड़ी व नायक सभा प्रदेशाध्यक्ष एडवोकेट राय सिंह चौहान ने की। बैठक को संबोधित करते हुए अखिल भारतीय हेड़ी व नायक सभा प्रदेशाध्यक्ष एडवोकेट राय सिंह चौहान ने कहा कि गठबंधन सरकार द्वारा मनमाने तरीके से बोर्ड के पदों पर नियुक्तियां की गई है।

जिसमें डीएनटी की सभी जातियों को प्रतिनिधित्व ना देकर अपने राजनीतिक स्वार्थ की पूर्ति हेतु केवल तीन चार जातियों के लोगों को ही सभी पदों पर नियुक्त किया गया है। चेयरमैन व सलाहकार सांसी समाज से और वाइस चेयरमैन व तीन सदस्य गडरिया समाज से तथा एक सदस्य औड समाज से आदि। औड समाज का सरकार में प्रतिनिधित्व विधायक रतिया लक्ष्मण नापा और सांसी समाज का  प्रतिनिधित्व शाहबाद विधायक रामकरण पहले से कर रहे हैं। यहां तक ही नहीं उक्त बोर्ड का एक सदस्य सैनी समाज से बनाया गया है, जिसका डीएनटी समाज से कोई मतलब ना है और सैनी समाज का पार्टी व सरकार में पहले से ही बहुत ज्यादा प्रतिनिधित्व है।

उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा उक्त बोर्ड में की गई नियुक्तियों पर डीएनटी के अन्य बहुसंख्यक सरकार में हिस्सेदारी से वचि़त समाजो हेड़ी, नायक, थोरी, अहेरिया, राय सिख, सपेरा, शोरगीर, बंजारा, गाड़िया लोहार, जोगी, जंगम, डुम, सिकलीगर व कुचबंद आदि के लोगों में अनदेखी की वजह से रोष है । यहां काबिले गौर है कि गडरिया समाज सांसी समाज की उपजाति है। उन्होंने कहा कि भाजपा अंत्योदय के नाम पर बड़ी-बड़ी बातें करती है। हकीकत में इसके विपरीत व्यवहार करती है। 2015 से लगातार उक्त जातियों के कार्यकर्ताओं ने 10 से 15 बड़े प्रोग्राम किए और पार्टी में अच्छे कार्यकर्ता भी है फिर भी इनको उक्त बोर्ड या सरकार में कोई भी प्रतिनिधित्व ना दिया गया तथा उनकी अनदेखी की जा रही है।

बैठक में उपस्थित कार्यकर्ताओं ने एक ध्वनि में कहा कि यदि उक्त बोर्ड की वर्तमान नियुक्तियों को शीघ्र रद्द करके डीएनटी के सभी समाजों को बोर्ड या सरकार में प्रतिनिधित्व ना दिया गया तो वे सरकार एवं पार्टी का विरोध करेंगे और समस्त डीएनटी समाज के हकों के लिए सड़क पर उतरेंगे। इस अवसर पर मुख्य रूप से गुरदीप सिंह वढ़वाल, दिलीप सिंह बेधड़क, राय सिंह चौहान, महेन्द्रसिंह  एडवोकेट, हरमिंदर सिंह इक्वल, अमर सिंह नायक, धनपत सिंह निरिक्षक, बसन्त सिवानी, शाम लाल अहेरिया, सुलतान सिंह पवार,सुभाष नायक, जय लाल लोहरा वकील, अशोक पवार एडवोकेट, एडवोकेट रमेश नायक, जिले सिंह किनाना, राम लाल शोरगीर, डा.शिव कुमार, प्रेम सिंह वढ़वाल, आशुतोष नायक, स.सुरजीत, जगदीश राठौर, मलकियत सिंह रानिया, राम सिंह बुके व दलबीर सिंह आर्य आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here