स्वास्थ्य कर्मियों ने काले बिल्ले लगाकर जताया विरोध

0
सिरसा के नागरिक अस्पताल में काले बिल्ले लगाकर विरोध जताते स्वास्थ्य कर्मी।
सिरसा के नागरिक अस्पताल में काले बिल्ले लगाकर विरोध जताते स्वास्थ्य कर्मी।

राजेंद्र कुमार सिरसा। सिरसा सहित समूचे हरियाणा में आज स्वास्थय कर्मचारी संघ हरियाणा संबंधित भारतीय मजदूर संघ एंव हरियाणा राज्य कर्मचारी संघ के नेतृत्व में राज्य कार्यकारिणी के आह्वान पर स्वास्थय विभाग में कार्यरत सभी वर्गो के कर्मचारियों ने काले बिल्ले लगाकर ड्यूटी की। इस दौरान कर्मचारियों ने सरकार द्वारा लंबित मांगों और अन्य समस्याओं की अनदेखी के चलते नारेबाजी कर विरोध प्रकट किया। तत्पश्चात एक ज्ञापन जिला सिविल सर्जन को सौंपा गया।

स्वास्थय कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेश महासचिव रमेश कुमार ने विभाग के कोरोना योद्धा स्वर्गीय हिम्मत मोर जींद, संजय पलवल, नीलम पलवल व अन्य सभी दिवंगत कर्मचारियों को श्रद्धांजलि देते हुए मांग की कि सरकार जल्द से जल्द घोषित राशि आश्रितों के खाते में भेजे व इन सभी को शहीद का दर्जा दिया जाए। स्वास्थय कर्मचारी संघ के प्रदेश सचिव विपिन शर्मा ने बताया कि स्वास्थय विभाग में कोरोना योद्धाओं का शोषण बढ़ता जा रहा है व काफी लंबे समय से जायज मांगों की अनदेखी हरियाणा सरकार कर रही है। जिसके चलते कर्मचारियों में भारी रोष है। स्वास्थय कर्मचारी संघ हरियाणा हमेशा देशहित में काम करता रहा है व करता रहेगा, लेकिन तत्काल समय में कोरोना योद्धाओं के बलिदान के बावजूद भी इस सरकार इनकी ओर ध्यान नहीं दे रही है। इसके विरोध स्वरूप सरकार और प्रशासन को अवगत करवाने तथा जगाने के लिए आज पूरे हरियाणा के सभी जिलों में काले बिल्ले लगाकर प्रदर्शन किया जा रहा है।

सरकार ने यदि हमारी मांगों और समस्याओं पर ध्यान नहीं दिया तो कर्मचारियों को मजबूरी वर्ष संघर्ष का रास्ता अपनाना पड़ेगा। इसके लिए 24 मई को हम पूरे हरियाणा में मुख्यमंत्री मनोहर लाल को सभी जिला सिविल सर्जन के माध्यम से ज्ञापन सौंपें जाएंगे। इस मौके पर मौजूद हरियाणा राज्य कर्मचारी संघ के भारतीय मजदूर संघ के जिला अध्यक्ष अमित शर्मा ने कहा कि भारतीय मजदूर संघ व हरियाणा राज्य कर्मचारी संघ इस महामारी में सरकार व देश की जनता के साथ खड़ा है, किंतु कर्मचारी वर्ग का शोषण बर्दाश्त नहीं करेगा। सरकार जल्द बैठक बुलाकर कर्मचारियों की लंबित पड़ी मांगों व समस्याओं का जल्द समाधान करे। इस मौके पर प्रदेश सचिव  विपिन शर्मा, जितेंद्र, सुरेश, सुल्तान, राजेश, शिव कुमार, रेखा, वीना, सविता, रजवंत भी हाजिर थे।

मुख्य मांगे इस प्रकार

  1. आउटसोर्सिंग में कार्यरत हटाये गए कर्मचारियों पुन: वापिश लिया जाए व शिक्योरिटी गार्ड का कॉन्ट्रैक्ट पूरे साल के लिए जारी रखा जाए। व ठेकेदारी प्रथा बन्द करके सभी को सरकार रोस्टर प्रणाली पर ले।
  2. सभी कर्मचारियों को सेवा सुरक्षा दी जाए ।
  3. सेवा नियमों में रह गई वेतन विसंगति जल्द दूर हो ।
  4. कर्मचारियों को सातवां वेतन लागू हो
  5. सभी वंचित कर्मचारी वर्गों को सेवा भांति नियम का लाभ मिले।
  6. सभी कर्मचारियों को कैशलेस मेडिकल सुविधा मिले
  7. कोरोना से मृत स्वास्थय कर्मचारियों को शहीद का दर्जा दिया जाए।
  8. कर्मचारियों को कई जगह अभी तक बायलॉज का लाभ नही मिल रहा इस पर त्वरित कार्यवाही की जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here