सरकार की लापरवाही के चलते प्रदेश में कोरोना बेकाबू : मेयर मदान

0
 सोनीपत। रेलवे स्टेशन को सेनिटाइज करता कर्मचारी।
 सोनीपत। रेलवे स्टेशन को सेनिटाइज करता कर्मचारी।

रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत। नगर निगम सोनीपत के मेयर निखिल मदान ने कहा कि सरकार ने समय रहते आक्सीजन आपूर्ति पर ध्यान नहीं दिया। जिसके चलते आज शहर के तकरीबन सभी कोविड अस्पतालों में हालत चिंताजनक है। उन्होंने कहा कि सोमवार रात से ही उनको फोन कॉल्स और ट्विटर के जरिये दो अस्पतालों से लोगों ने बताया कि उनके यहां आक्सीजन की कमी होने वाली है, जिसके चलते सैकड़ों मरीजों की जान खतरे में पड़ सकती है। नगर निगम मेयर निखिल  मदान ने उपायुक्त, सीएमओ व नोडल अधिकारियों से संपर्क कर आक्सीजन का इंतजाम करवाया, जिससे अस्पताल प्रबंधन और मरीजों  ने राहत की सांस ली। मदान ने कहा कि सोनीपत का ऑक्सीजन खपत का कोटा पहले की तरह प्रतिदिन 9 टन किया जाये और खपत बढऩे पर उसको उसी अनुपात में बढ़ाया जाए।

नगर निगम सोनीपत द्वारा शहर के हर वार्ड में सेनिटाइजर छिडक़ाव शुरू कर दिया गया है। इसके लिए वार्ड अनुसार नगर निगम कर्मचारियों की नियुक्ति की गई है। निगम मेयर ने कहा कि संकट की इस घड़ी में कांग्रेस पार्टी के सभी नेता और कार्यकर्ता 24 घंटे लोगों के साथ हैं और उनकी मदद कर रहे है। उन्होंने कहा कि उन्हें ट्विटर, फेसबुक, फोन कॉल्स और अन्य माध्यम से लोग लगातार बता रहे हैं कि अस्पतालों में बेड नहीं मिल रहा, कहीं ऑक्सीजन नहीं मिल रहा। उन्होंने सरकार से आग्रह किया कि कोरोना रोकथाम के लिए तुरंत युद्ध स्तर पर ठोस उपाय किए जाएं और इलाज के लिए इंतजामों को बढ़ाया जाए। इलाज के अभाव में एक जान भी नहीं जानी चाहिए।

Previous articleसोनीपत की मंडियों व खरीद केंद्रों में 390245 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद
Next articleयुवक से 50 ग्राम अफीम बरामद
न्यूज पोर्टल की श्रृखला में एक नया नाम सोनीपत 24 न्यूज पोर्टल और जुड़ गया। आप सोच रहे होंगे इसमें कौनसी बड़ी बात है। आखिर हर रोज तो न्यूज पोर्टल बनते रहते हैं। यह सच है कि आज के युग में जो न्यूज पोर्टल बनते हैं। अधिकांश निष्पक्ष और पारदर्शी पत्रकारिता का दावा करते हैं, परंतु जब हम उन्हें देेखते हैं तो हमारी उपेक्षाओं पर खरे नहीं उतरते हैं और हमें निराशा ही हाथ लगती है, हम पाते हैं कि न्यूज पोटर्ल में खबर ही नहीं। किसी ने राजनीतिक पार्टी में, किसी ने सत्ताधारी पार्टी की हां में हां करके पत्रकारिता के मूल स्वरुप को दूर ले जाया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here