तम्बाकू मुक्त भविष्य के लिए युवाओं व घर के बुजूर्गों को आगे आना होगा : उपायुक्त

0

अभियान का मुख्य उद्देश्य लोगों को तम्बाकू व धुम्रपान के उपयोग से होने वाले नुकसानों से अवगत कराना

देवघर। बाबा नगरी को तम्बाकू व धुम्रपान मुक्त बनाने की दिशा में आज उपायुक्त सहजिला दण्डाधिकारी मंजूनाथ भजंत्री द्वारा टॉवर चौक के समीप रोको-टोको जागरूकता अभियान का शुभारंभ किया गया। इस दौरान लोगों को जागरूक व सचेत करने के उद्देश्य से उपायुक्त की उपस्थिति में गठित टीम व भोलेनाथ के दूतों द्वारा अभियान के माध्यम से तम्बाकू व धुम्रपान के प्रति लोगों को जागरूक करते हुए नियमों का उल्लंघन करने वाले लोगों से दण्ड की राशि भी वसूल की गयी। इसके अलावे अभियान के दौरान उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री द्वारा तम्बाकू खा रहे लोगों को जागरूक करते हुए कहा कि सार्वजनिक जगहों पर सभी तरह के तम्बाकू उत्पादों यथा सिगरेट, बीड़ी, पान  मसाला, हुक्का, खैनी, जर्दा, गुटका और इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के उपयोग पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाया गया है।

वर्तमान में पान मसाला, खैनी, जर्दा और गुटका खाकर यत्र तत्र थूकने से कोरोना वायरस फैलने का खतरा बढ़ता है। ऐसे में सार्वजनिक जगहों पर तम्बाकू पदार्थों के सेवन पर प्रतिबंध लगाया गया है। साथ हीं उपायुक्त ने बताया कि तंबाकू का सेवन जन स्वास्थ्य के लिए बड़े खतरों में से एक है। थूकना एक सार्वजनिक स्वास्थ्य खतरा है और संचारी रोग के फैलने का एक प्रमुख कारण है। तंबाकू सेवन करने वालों की प्रवृति यत्र-तत्र थूकने की होती है। थूकने के कारण कई गंभीर बीमारी यथा कोरोना, इंसेफलाइटिस, यक्ष्मा, स्वाइन फ्लू आदि का संक्रमण फैलने की आशंका के साथ धूम्रपान के कारण रोग-प्रतिरोधी क्षमता के क्षरण से भी इसके संक्रमण की संभावना बढ़ जाती है। इस दौरान मीडिया से बातचीत करते हुए उपायुक्त मंजुनाथ भजंत्री ने सभी से आग्रह करते हुए कहा कि वर्तमान समय में तम्बाकू से सेवन से प्रतिवर्ष भारत में 9 लाख लोगों की मृत्यु होती है। वहीं दूसरी और हमारे देश में रोजाना एक आंकड़े के मुताबिक 5500 युवक तम्बाकू का सेवन शुरू करते है। ऐसे में ये समझने की आवश्यकता है कि कैसे धुम्रपान व तम्बाकू हमारे समाज के युवकों को  अपनी आगोश में ले रहा है।

ऐसे में बाबा नगरी को तम्बाकू व धुम्रपान मुक्त बनाने की दिशा में जिले के सभी वर्गों का सहयोग आपेक्षित है। इसके अलावे उपायुक्त मंजुनाथ भजंत्री ने कहा कि युवाओं का परम कर्तव्य बनता है कि वे इस लत से दूर ही रहे और बच्चों की भी निगरानी करें। नव युवकों को चाहिए कि तम्बाकू व धुम्रपान के दलदल से बचकर समाज व देश की उन्नति में अपना हर संभव सहयोग करें। इस दौरान उपरोक्त के अलावे जिला जनसम्पर्क पदाधिकारी रवि कुमार, जिला कुष्ट नियंत्रण पदाधिकारी-सह-नोडल पदाधिकारी डॉ. प्रतिनियुक्त पदाधिकारी जिला जनशिकायत कोषांग, देवघर डॉ. सत्येन्द्र, सहायक जनसम्पर्क पदाधिकारी रोहित कुमार विद्यार्थी, सीड्स के प्रतिनिधि एवं संबंधित अधिकारी व कर्मी आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here