छात्रों के मानसिक एवं भौतिक विकास पर ध्यान दिया जाए : पाण्डेय

0
>देहरादून।< प्रदेश के विद्यालयी शिक्षा, प्रौढ़़ शिक्षा, संस्कृत शिक्षा, खेल, युवा कल्याण एवं पंचायती राज मंत्री अरविन्द पाण्डेय ने विधान सभा, सभाकक्ष में विद्यालय का शैक्षणिक माहौल सुधारने विषय पर बैठक ली। उन्होंने कहा कि अध्यापक और छात्र के अनुपात को तार्किक करने के लिए सभी ब्लॉकों के आंकड़े लिए जाऐं। प्रतिनियुक्ति और डायट में कार्यरत अध्यापकों को मूल पद पर भेजा जायेगा। शिक्षा मंत्री ने कहा राष्ट्रीय शिक्षा नीति में उत्तराखण्ड अपनी विशेष भौगोलिक परिस्थितियों के सन्दर्भ में सुझाव देगी। यह सुझाव हिमालयी राज्य के सन्दर्भ में होगी। उन्होंने कहा प्रदेश के 13 नवोदय विद्यालयों को मॉडल विद्यालय के रूप में विकसित किया जायेगा, इस सन्दर्भ में 7 अगस्त को बैठक होगी। बैठक में राष्ट्रीय शिक्षा नीति में उत्तराखण्ड राज्य के सुझाव में छात्रों की क्षमता के विकास पर बल देते हुए कहा गया कि छात्रों के मानसिक एवं भौतिक विकास पर ध्यान दिया जाए। व्यवसायिक शिक्षा पर बल देते हुए सुझाव दिया गया कि स्थानीय स्तर पर शिल्प काश्तकारों को व्यवसायिक शिक्षा के लिए मानदेय पर आमंत्रित किया जाए। नैतिक शिक्षा, ज्ञान-योग पर बल देते हुए स्थानीय प्रेरक प्रसंगों पर भी फोकस रखा जाय। सुझाव के अन्तर्गत कहा गया कि 5 किलोमीटर के भीतर स्कूल काम्प्लैक्स हो जिसमें प्राथमिक, माध्यमिक एवं आई.टी.आई. विद्यालय हों। स्कूल कैम्पस में प्रिंसिपल एवं अध्यापक के आवास का भी प्रबन्ध होगा। पब्लिक शब्द का प्रयोग प्राइवेट स्कूल नहीं कर सकेंगे। छात्रों के लिए यूनिक आई.डी. जारी करने पर भी बल दिया गया। बैठक में सचिव विद्यालयी शिक्षा रंजीत सिन्हा, निदेशक शिक्षा आर.के.कुंवर, निदेशक एस.सी.ए.आर.टी. सीमा जौनसारी, अपर निदेशक सीमैट श्रीमती शशि चैधरी, अपर निदेशक एस.सी.ई.आर.टी. अजय कुमार नौटियाल, अपर निदेशक बन्दना गब्र्याल, रामकृष्ण उनियाल एवं वी.एस.रावत, संयुक्त निदेशक एस.सी.ई.आर.टी. कुलदीप गैरोला और प्रदीप रावत, संयुक्त निदेशक भूपेन्द्र ंिसह नेगी आदि अधिकारी मौजूद थे।
Previous article20 विद्यार्थियों को लेपटोप देकर किया सम्मानित
Next articleहत्या करने के दो आरोपी गिरफतार
न्यूज पोर्टल की श्रृखला में एक नया नाम सोनीपत 24 न्यूज पोर्टल और जुड़ गया। आप सोच रहे होंगे इसमें कौनसी बड़ी बात है। आखिर हर रोज तो न्यूज पोर्टल बनते रहते हैं। यह सच है कि आज के युग में जो न्यूज पोर्टल बनते हैं। अधिकांश निष्पक्ष और पारदर्शी पत्रकारिता का दावा करते हैं, परंतु जब हम उन्हें देेखते हैं तो हमारी उपेक्षाओं पर खरे नहीं उतरते हैं और हमें निराशा ही हाथ लगती है, हम पाते हैं कि न्यूज पोटर्ल में खबर ही नहीं। किसी ने राजनीतिक पार्टी में, किसी ने सत्ताधारी पार्टी की हां में हां करके पत्रकारिता के मूल स्वरुप को दूर ले जाया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here