बिजली शिकायतों के तत्काल निदान की जवाबदेही तय करे निगम : जैन

0
रणबीर सिंह रोहिल्ला, सोनीपत। शहरी स्थानीय निकाय, महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन ने बिजली निगम के अधिकारियों को आदेश दिए हैं कि वह टोल फ्री एवं बिजली शिकायत केंद्र पर आने वाली शिकायतों के तत्काल निदान के लिए अधिकारी एवं कर्मचारियों की जवाबदेही तय करें तथा अपनी ड्यूटी में लापरवाही बरतने वाले के खिलाफ कडी कार्रवाई करें। उन्होंने कहा कि निगम शहर के सभी संबंधित कामों को प्राथमिकता के आधार पर पूरे करवाए, ताकि बिजली व्यवस्था को पुख्ता किया जा सके। वीरवार सुबह मंत्री कविता जैन ने सेक्टर 15 स्थित आवास पर बिजली निगम के अधीक्षण अभियंता, कार्यकारी अभियंता एवं विभिन्न जोन के एसडीओ के साथ बिजली प्रबंध पर समीक्षा बैठक की। उन्होंने कहा कि आमजन से शिकायत मिल रही है कि टोल फ्री नंबर से लेकर बिजली शिकायत केंद्र पर की जाने वाली शिकायतों को लेकर अधिकारी, कर्मचारियों का रवैया सही नहीं है। यही नहीं शिकायत नोट करने में भी बरती जा रही लापरवाही को लेकर उन्होंने ऐसे कर्मचारियों को चेतावनी देने तथा भविष्य में लापरवाही मिलने पर कडी कार्रवाई करने के आदेश दिए। मंत्री कविता जैन ने कहा कि शहर में बिजली व्यवस्था को बेहतर करने के लिए साढे तीन करोड रूपए की योजना तैयार की जा चुकी है। अधिकारी इसे गंभीरता से लेते हुए कामों को शीघ्र प्रारंभ करवाएं, ताकि बिजली उपभोक्ताओं को इसका लाभ मिल सके। उन्होंने श्याम नगर, भगतपुरा, भरतपुरी, नंदवानी नगर में बिजली की तार बदलने, अंबेडकर हास्टल के सामने ट्रांसफार्मर बदलने, कालुपूर एवं भगत सिंह कालोनी में प्राथमिकता के आधार पर खंभे लगाने के निर्देश दिए। यही नहीं उन्होंने इसके अतिरिक्त पूर्व के सभी पेंडिंग कामों को जल्द से जल्द निपटाने पर भी जोर दिया। उन्होंने सूरज सब स्टील के दायरे बदली जा रही लाइन के काम में भी तेजी लाने के निर्देश दिए, ताकि लाइन पार क्षेत्र में बिजली आपूर्ति में बाधा का स्थाई समाधान किया जा सके। इस मौके पर एसई मुनीष चौहान, एक्सईएन सिटी जेसी शर्मा, एक्सईएन मुनीन्द्र सिंह, एसडीओ प्रदीप कुमार, हेमन्त सिंह, सौरभ कुमार, केशव मौजूद रहे।
Previous article300 नई बसों को सड़कों पर लाया जायेगा : आर्य
Next articleसडक़ सुरक्षा को लेकर कोई समझौता न करें : डा. सिंह
न्यूज पोर्टल की श्रृखला में एक नया नाम सोनीपत 24 न्यूज पोर्टल और जुड़ गया। आप सोच रहे होंगे इसमें कौनसी बड़ी बात है। आखिर हर रोज तो न्यूज पोर्टल बनते रहते हैं। यह सच है कि आज के युग में जो न्यूज पोर्टल बनते हैं। अधिकांश निष्पक्ष और पारदर्शी पत्रकारिता का दावा करते हैं, परंतु जब हम उन्हें देेखते हैं तो हमारी उपेक्षाओं पर खरे नहीं उतरते हैं और हमें निराशा ही हाथ लगती है, हम पाते हैं कि न्यूज पोटर्ल में खबर ही नहीं। किसी ने राजनीतिक पार्टी में, किसी ने सत्ताधारी पार्टी की हां में हां करके पत्रकारिता के मूल स्वरुप को दूर ले जाया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here