लोगों के घर तक पहुंचाएंगे सरकार की योजनाओं का लाभ : मनोहर

0
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किया परिवार पहचान पत्र पोर्टल का शुभारम्भ, प्रदेश के सभी परिवारों का रियल डाटा होगा एक पोर्टल पर, सरकार की योजनाओं का मिलेगा पात्र लोगों को फायदा, डाटा को अपडेट करने के दिए आदेश< चंड़ीगढ़।< मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि राज्य सरकार की तरफ से एक ऐतिहासिक कदम उठाया गया है। इसके तहत प्रदेश के सभी बाशिंदे 26 जुलाई से नागरिक प्रोफार्मा भरकर जमा करवाएंगे। इससे प्रत्येक परिवार का पहचान पत्र तैयार किया जा सकेगा और इस डाटा को निरंतर अपडेट भी किया जा सकेगा। इतना ही नहीं आने वाले समय में सरकार की सभी योजनाओं का लाभ इस डाटा के माध्यम से दिया जाएगा और पात्र लोगों के घर तक सरकार की योजनाओं का लाभ स्वयं सरकार द्वारा पहुंचाया जाएगा। मुख्यमंत्री मनोहर लाल वीरवार को देर सायं चंड़ीगढ़ से परिवार पहचान पत्र पोर्टल का शुभारम्भ करने के उपरांत प्रदेश के सभी अधिकारियों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि देश में नागरिकों की पहचान केवल आधार व परिवार के तौर पर केवल राशन कार्ड के माध्यम से सम्भव हो पाती थी, इस प्रणाली से परिवार का डाटा निरंतर अपडेट नहीं होता था और पात्र लोगों को सरकार की योजनाओं का लाभ लेने में भारी मशक्कत का सामना करना पड़ता था। इस प्रदेश के तमाम लोगों की दिक्कतों को दूर करने और सुशासन की कदम बढ़ाने के लिए सरकार ने परिवार पहचान पत्र बनाने का निर्णय लिया। इस निर्णय के तहत 3 साल पहले रेजिडेंस डाटाबेस पर काम करना शुरु किया गया था और सरकार का फोकस प्रत्येक परिवार का पहचान पत्र तैयार करने की योजना पर केन्द्रित किया गया। अब सरकार के इन प्रयासों से पूरे परिवार का रियल डाटा एकत्रित हो पाएगा। परिवार में सदस्य जुडऩे से लेकर किसी सदस्य की मृत्यू होने की स्थिति में इस डाटा को अपडेट किया जा सकेगा। इससे सार्वजनिक वितरण प्रणाली और अन्य योजनाओं का लाभ पात्र लोगों को सहजता से दिया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि परिवार पहचान पोर्टल पर कब-कब डाटा अपडेट किया गया, इसकी जानकारी सिस्टम के माध्यम से मिलती रहेगी। शहर में नगर पालिका तथा गांव में स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से जन्म के समय आंकड़े एकत्रित करने के लिए आंगनवाड़ी एवं अन्य वर्करों तथा मृत्यू की स्थिति में चौंकीदार के माध्यम से डाटा अपडेट किया जा सकेगा। इस काम में शामिल होने वाले कर्मचारियों को सरकार की तरफ से इंसेटिव भी दिया जाएगा। इस डाटा से विवाह प्रमाण पत्र का डाटा भी भविष्य में अपडेट करना सुनिश्चित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि योजना विभाग के पास तैयार होने वाले इस डाटा के माध्यम से अन्य विभाग भी अपनी योजना के लिए इस डाटा से जुड़ेंगे और विभागों के आपसी आंकड़ों में होने वाले अंतर को भी खत्म किया जा सकेगा। परिवार पहचान पत्र के माध्यम से हर परिवार की आवश्यकता को ध्यान में रखकर इसका प्रयोग किया जाएगा। आज तक योजना का लाभ लेने के लिए लोग सरकार के पास आते थे, लेकिन इस डाटा बेस के बाद सरकार योजनाओं का लाभ देने के लिए आमजन के पास जाएगी। उन्होंने कहा कि देश में एक गरीब और दूसरी गरीब का उत्थान करने वाली केवल दो ही जाति है। सरकार आर्थिक आधार पर प्रदेश के नागरिकों को हर उस योजना का लाभ देने का अवसर प्रदान करेगी, जिसके लिए वह योग्य है। जिम्मेवार अधिकारी प्रत्येक व्यक्ति की विभाग से सम्बन्धित जानकारी ही एक्सैस कर पाएंगे और सुरक्षा कारणों से सारा डाटा भी एक्सैस नहीं हो पाएगा। यह कार्यक्रम निरंतर चलने वाला कार्यक्रम है, इसमें लगातार सुधार होंगे तथा सुनिश्चित किया जाएगा कि सबको उनका हक दिया जाए। प्रत्येक व्यक्ति की चल-अचल सम्पति की जानकारी भी मिल पाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार अटल सेवा केन्द्र, सरल केन्द्र, अंतोदय केन्द्र पर प्रोफार्मा लेने, प्रिंट आउट के लिए नागरिक से कोई पैसा नहीं लिया जाएगा। हरियाणा के वित्तमंत्री कैप्टन अभिमन्यू ने कहा कि परिवार पहचान पत्र हरियाणा में सुशासन की दिशा में एक अहम कदम है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रत्येक योजना का लाभ परिवार ईकाई तक पहुंचाने के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए है। परिवार पहचान का संकल्प देश में उदाहरण के तौर पर पढ़ा जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here