कार्यशाला से कार्यप्रणाली होगी बेहतरीन : कुलपति अनायत

0
अमन अटकान, सोनीपत। >दीनबंधु छोटू राम विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, मुरथल के कुलपति प्रो.राजेंद्रकुमार अनायत ने कहा कि मानव को मूल्याकंकन, विश्वलेषण के माध्यम से अपने अंदर सुधार कर सकता है। स्वयं का विश्लेषण करने से विपरीत परिस्थितियों में भी कार्यप्रणाली बेहतरीन हो जाएगी। कुलपति प्रो.अनायत डीसीआरयूएसटी में इमोशनल कंपीटेंस फॉर इफेक्टिव टीम मैनेजमेंट एण्ड कंफलिक्ट रिजोलूशन पर दो द्विसीय वर्कशॉप के उद्घाटन के अवसर पर संबोधित कर रहे थे। कार्यशाला में विश्वविद्यालय के अधिष्ठाता, विभागाध्यक्ष व संबद्ध कॉलेजों के प्रतिनिधि  भाग ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि कार्यशाला के बाद कार्य प्रणाली तो बेहतरीन बनेगी और मुश्किल हालात का सफलतापूर्वक समाधान किया जा सकेगा। कुलपति प्रो.अनायत ने आशा व्यक्त करते हुए कहा कि कार्यशाला से प्रतिभागियों को निश्चित तौर पर लाभ मिलेगा। फेकल्टी ऑफ लेक्स इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट के प्रो.सुरेश वर्गीश ने कहा कि कार्य और संबंध के मध्य समन्वय स्थापित करके द्वंदता को कम किया जा सकता है, जिससे कार्य स्थल पर कार्य क्षमता को बढाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि मनुष्य में प्रभुत्व,प्रभाव,निरंतरता व परिपूर्णता के भाव पाए जाते हैं। मनुष्य चारों भाव में  समन्वय स्थापित करके अपने कार्यक्षेत्र में नए आयाम स्थापित कर सकता है। विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार प्रो. अनिल खुराना में आए हुए विशेषज्ञों का स्वागत किया। कार्यशाला के कन्वीनर प्रो.आर.के.गर्ग हैं। इस अवसर पर प्रो.जे.एस.सैनी, प्रो.डी.सिंहल, प्रो.संजीव माकिन, प्रो.मनोज दूहन, प्रो.सतीश खासा प्रो. सुजाता राणा, प्रो.ए.के.शर्मा, प्रो.ज्योति पाण्डेय, प्रो. सुरेश वर्मा, प्रो.सुधीर बत्रा, प्रो. परविंद्र सिंह, प्रो. किरण नेहरा, प्रो.सुरेंद्र सिंह दहिया, प्रो.अमिता मलिक, प्रो.अवधेश कुमार, प्रो.महेंद्र नरवाल, प्राचार्य .एस.राणा, प्रो. अजय, प्रो. एस.एन. महापात्रा, प्रो. बी.एस.दहिया, डा.पवन दहिया,  डा. ममता महेंदीरता, डा.रूपा राठी, डा.दिनेश सिंह, डा.कृष्ण कुमार, डा. सीमा चावला, डा.मेहर सिंह व कार्यकारी अभियंता बलबीर सिंह श्योकंद आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here