देश के 58 शहरों को बनाया जाएगा अशक्त लोगों के अनुकूल : कविता जैन

0
रणबीर सिंह रोहिल्ला, सोनीपत। शहरी स्थानीय निकाय तथा महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन ने लोगों का आह्वान किया कि मानसिक व शारीरिक रूप से अशक्त बच्चों व लोगों को समाज की मुख्य धारा में शामिल किया जाए। इस दिशा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विशेष पहल करते हुए अनूठी शुरुआत की है, जिसके तहत अब मानसिक व शारीरिक रूप से अक्षम लोगों के लिए विकलांग शब्द का प्रयोग नहीं किया जाएगा। शहरी स्थानीय निकाय मंत्री रविवार को कोशिश चेरिटेबल ट्रस्ट के वार्षिकोत्सव में उपस्थित लोगों को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रही थी। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार अशक्त लोगों को सक्षम बनाने के लिए प्रयासरत है। इस दिशा में अशक्त मित्र राज्य बनाये जायेंगे, जिसके लिए शुरुआत में 18 राज्यों को एक प्रोजैक्ट के रूप में चुना गया है। साथ ही देश के 58 शहरों को भी अशक्त लोगों के अनुकूल बनाया जाएगा, जिनमें हरियाणा के फरीदाबाद व गुरुग्राम को भी शामिल किया गया है। ऐसे शहरों में सरकारी स्तर पर अशक्त लोगों को अधिकाधिक सुविधाएं दी जाएंगी। ऐसे शहरों में सरकारी बसें भी लो-फ्लोर चलाई जाती हैं ताकि अशक्त लोगों को चढऩे-उतरने में परेशानी न हो। महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन ने कहा कि इस दिशा में जन सहयोग विशेष रूप से अपेक्षित है ताकि अशक्त लोगों का जीवन सरल बनाया जा सके। उन्होंने कोशिश संस्था की भी प्रशंसा करते हुए कहा कि समाज के ऐसे वर्ग के लिए समर्पित भाव से कार्य करना प्रशंसनीय है। जो लोग अपनी बात कहने में समर्थ नहीं हैं उन लोगों के हितार्थ कार्य करना बड़ी बात है। उन्होंने कहा कि शुरुआत में उनके पास समाज कल्याण विभाग था, जिसके माध्यम से उन्हें भी अशक्त लोगों की सेवा का मौका मिला। इसके पहले मंत्री कविता जैन ने रक्तदान शिविर का शुभारंभ किया। उन्होंने रक्तदाताओं का उत्साहवद्र्धन करते हुए कहा कि स्वेच्छा से रक्तदान करते रहना चाहिए। रक्तदान का दूसरा कोई विकल्प नहीं है। इनके अलावा शहरी स्थानीय निकाय मंत्री ने विभिन्न कार्यक्रमों में हिस्सा लिया। इस दौरान संजय सिंगला, जितेंद्र अग्रवाल आदि गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here